शुक्राणु को गाढ़ा करने के उपाय व घरेलू नुस्खे

Health
Spread the love

कई रिसर्च में इस बात को पाया गया है कि शुक्राणु का गाढ़ा और सफेद होना, एक स्वस्थ शुक्राणु की निशानी है। जबकि पतला व पानी की तरह शुक्राणु में शुक्राणुओं की कमी होती है। वहीं दूसरी ओर पुरुष भी सफेद और गाढ़े शुक्राणु को मर्दाना ताकत से जोड़कर देखते हैं। आज कई पुरुषों में शुक्राणु के पतला होने की समस्या देखी जाती है। लेकिन इस समस्या को आप घरेलू नुस्खों के द्वारा आसानी से ठीक कर सकते हैं। शुक्राणु को गाढ़ा करने के उपाय और घरेलू नुस्खों को नीचे विस्तार पूर्वक बताया जा रहा है।

google images

व्यायाम से करें शुक्राणु को गाढ़ा-

कई अध्ययन में इस बात का पता चला है कि वजन को कम करने वाले व्यायाम से आपके शुक्राणुओं की संख्या में इजाफा होता है। इसके अलावा अध्ययन यह भी कहते हैं कि एक सप्ताह में कम से कम 15 घंटों की एक्सरसाइज करने से न सिर्फ मांसपेशियों को फायदा मिलता है, बल्कि शुक्राणु में मौजूद शुक्राणुओं की संख्या में भी बढ़ोतरी होती है।

तनाव को दूर करें-

किसी भी तरह का तनाव होने से शरीर के अंगों पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। तनाव के कारण मांसपेशियों में थकान होती है, साथ ही साथ ऊर्जा का स्तर भी कम हो जाता है। तनाव ग्रस्त व्यक्ति सुस्ती व थकान के कारण प्रजनन क्षमता की ओर ध्यान ही नहीं दे पाते हैं। इसके लिए आपको तनाव होने कारणों को पहचानना होगा। साथ ही उन खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल करें जो आपको तनाव मुक्त रखने में सहायक हों। योग के माध्यम से भी आप तनाव को कम कर सकते हैं।

शुक्राणु को गाढ़ा करने के लिए करें अश्वागंधा का प्रयोग-

भारत में सदियों से अश्वागंधा का प्रयोग किया जा रहा है। इसको भारतीय जिनसेंग (Ginseng) के नाम से भी जाना जाता है। आयुर्वेद में यौ न रोगों के इलाज के लिए इसका उल्लेख विस्तार पूर्वक किया गया है। वर्ष 2016 में एक अध्ययन किया गया और इस अध्ययन में कम शुक्राणु वाले 46 पुरुषों को शामिल किया गया। इन सभी पुरुषों को रोजाना 675 मिलीग्राम अश्वगंधा दिया गया। 90 दिनों के बाद जब इनके शुक्राणुओं की जांच की गई तो उसमें 165 प्रतिशत की वृद्धि देखने को मिली। इस तरह अश्वगंधा पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाने के लिए बेहतर मानी जाती है।

सूरजमुखी व कद्दू के बीज से करें शुक्राणु को गाढ़ा-

शुक्राणु को गाढ़ा करने के लिए आपको नियमित रूप से सूरजमुखी व कद्दू के बीजों का सेवन करना चाहिए। आपको एक चौथाई कप सूरजमुखी व कद्दू के बीजों का नियमित रूप से सेवन करना होगा। एक माह तक लगातार ऐसा करने से शुक्राणु गाढ़ा हो जाता है और पुरुषों की प्रजनन क्षमता में भी वृद्धि होती है।

विटामिन डी और कैल्शियम का सेवन-

रिर्सच में इस बात को बताया गया है कि विटामिन डी और कैल्शियम की मदद से शुक्राणु के पतलेपन की समस्या को दूर किया जा सकता है। वहीं इस विषय पर हुए कई अन्य अध्ययन में इस बात की पुष्टि हुई है कि विटामिन डी व कैल्शियम से आप शुक्राणु की गुणवत्ता में वृद्धि कर सकते हैं। जबकि आहार में विटामिन डी के स्त्रोतों का सेवन कम करने से आपको इसकी कमी महसूस हो सकती है और शुक्राणुओं की संख्या भी कम हो जाती है।

एंटीऑक्सीडेंट युक्त खाद्य पदार्थ-

एंटीऑक्सीडेंट युक्त खाद्य पदार्थ हमारे शरीर को कई तरह से स्वस्थ रखते हैं। इनके सेवन से कोशिकाओं को हानि पहुंचाने वाले फ्री रेडिकल्स नष्ट हो जाते हैं। कई तरह के विटामिन और खनिज एंटीऑक्सीडेंट की तरह ही काम करते हैं। वहीं कई अन्य अध्ययन में यह पता चला है कि एंटीऑक्सीडेंट्स से शुक्राणु संबंधी समस्याएं कम होती हैं और शुक्राणुओं की संख्या में तेजी से वृद्धि होती है।

निम्न एंटीऑक्सीडेंट के द्वारा शुक्राणु को स्वस्थ बनाया जा सकता है:

– ग्लूटेथिओन (Glutathione)

– सेलेनियम (Selenium)

– विटामिन ई (Vitamin E)

– विटामिन सी (Vitamin C)

– कोएंजाइम क्यू10 (Coenzyme Q10)

– आई-कारनिटाइन (I-carnitine) और पढ़ें – विटामिन के फायदे)

स्वस्थ वसा का सेवन करें-

पॉलीअनसैचुरेटेड वसा (Polyunsaturated fats) को स्वस्थ वसा कहा जाता है। वसा के दो प्रकार होते हैं, एक को मानव शरीर के लिए अच्छा बताया जाता है, जबकि दूसरे को खराब। पॉलीअनसैचुरेटेड वसा, वसा का स्वस्थ रूप माना जाता है। इससे शरीर को किसी तरह की कोई हानि नहीं होती है। ओमेगा-3 और ओमेगा-6 स्पर्म को बनाने के लिए मददगार होती है। अलसी के बीज, अखरोट, बेरी, राई का तेल और बीन्स में ओमेगा-3 के गुण पाएं जाते हैं, जबकि ओमेगा-6 के लिए आपको मूंगफली, जैतून का तेल और तिल के बीज आदि में पाया जाता है।

शुक्राणु को गाढ़ा बनाने वाले खाद्य पदार्थ-

कुछ खाद्य पदार्थों के सेवन से आप अपने शुक्राणु को गाढ़ा बना सकते हैं। इसमें शामिल है दही, बादाम, लहसुन, अनार, राजमा, ग्रीन टी, केला, नींबू, साबुत अनाज व दालें, डार्क चॉकलेट, दूध वाले पदार्थ और हल्दी आदि।

Leave a Reply