क्या फिल्म संजू के बाद लोग संजय दत्त को क्रिमिनल समझना बंद कर देंगे ?

Celebrities
Spread the love

राजकुमार हिरानी के निर्देशन में बनी संजय दत्त की बायोपिक फिल्म संजू दर्शको को काफी पसंद आ रही है, लेकिन फिल्म देखकर ऐसा महसूस हो रहा है की यह संजय दत्त की बायोपिक कम बल्कि उनकी अपराधी छवि को सुधारने की कोशिश ज्यादा लग रही है| पूरी फिल्म में संजय दत्त के इस अपराध को छोटी सी भूल बताने का की खूब कोशिश हुई है| आज हम आपको बताने जा रहे है की यह फिल्म संजय दत्त के दमन पर लगे दाग मिटा पाएगी|

सबसे पहले तो हमें यह जानने की जरुरत है की संजय दत्त का अपराध क्या था? संजय दत्त पर 1993 में मुंबई बम ब्लास्ट में हाथ होने का आरोप साबित हुआ है जिसमे 150 से भी ज्यादा मासूम लोग मारे गए थे, इसके अलावा अन्तराष्ट्रीय आतंकी से भी उनकी संलिप्तता पाई गई है| सिर्फ इतना ही नहीं उनके पास ए.के 56 जैसी अत्याधुनिक हथियार भी बरामद हुआ था जो सिर्फ खूंखार आतंकी ही रखते है|

संजय दत्त को पुलिस की एक स्पेशल सेल ने पकड़ा था और उनको यरवदा जेल में रखा था जहा पर सिर्फ आतंकवादियों को ही रखा जाता है| भले ही हिरानी दोस्ती निभाते हुए इस फिल्म के माध्यम से संजय की इमेज सुधारना चाह रहे हो लेकिन उन 150 लोगो के परिवार संजय को कभी नहीं माफ़ कर पाएँगे जिनको उन्होंने हमेशा के लिए खो दिया है|

Leave a Reply