मुस्लिम समुदाय में खतना क्यों किया जाता है ? खतना के फायदे

Knowledge
Spread the love

खतना एक धार्मिक प्रथा है, जो यहूदियों व मुस्लिम परिवारों के लोगों द्वारा निभाई जाती है। इसके अलावा आस्ट्रेलिया व अफ्रिका के आदिवासी जनजाति के लोगों के बीच यह प्रथा काफी प्रचलित है। बल्कि कुछ लोग इसको पारिवारिक मूल्यों, स्वयं की स्वच्छता व स्वास्थ्य के लिए भी सुरक्षित मानते हैं। कई बार इस तरह की क्रिया को चिकित्सीय कारणों के चलते भी संपन्न किया जाता है। चिकित्सीय कारणों की बात करें तो कई बार लिंग के ऊपर की त्वचा काफी सख्त हो जाती है, जिससे इसको आगे पीछे करने में मुश्किल होती है, तब इस त्वचा को हटा दिया जाता है। अफ्रिका देश के कुछ हिस्सों में कई तरह के यौन संचारित संक्रमण से बचने के लिए भी इस क्रिया को युवकों व पुरुषों के लिए जरूरी माना जाता है। बच्चों में खतना करने का निर्णय मां-बाप ही लेते हैं।

google images

खतना के फायदे

खतना करने के कई फायदे बताए जाते हैं, लेकिन चिकित्सीय रूप से (Medically) इन्हें मान्यता नहीं दी गई है। खतना करने के कथित फायदे में निम्न को शामिल किया जाता है-

साफ करने में आसानी – खतना के बाद पुरुषों को अपने लिंग को धोने या साफ रखने में मुश्किल नहीं होती है।

मूत्र-मार्ग के संक्रमणों को दूर करता है – खतना के बाद मूत्र मार्ग में संक्रमण होने का खतरा कम हो जाता है। जबकि खतना रहित पुरुषों में इस तरह के जोखिम की संभावनाएं अधिक होती हैं। कुछ मूत्र मार्ग संक्रमण किडनी के समस्याएं भी उत्पन्न कर सकते हैं।

यौन संचारिय संक्रमण से बचाव – खतना के बाद पुरुषों में यौन संचारित संक्रमण होने का खतरा बेहद कम हो जाता है। इन पुरुषों को एचआईवी का खतरा भी कम होता है, लेकिन इसके बावजूद भी इनको यौन संबंध बनाते समय सावधानी बरतने की आवश्यकता होती है।

लिंग संबंधी समस्याओं से बचाव – बिना खतना किए हुए लिंग में कई तरह की समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं। जैसे कई मामलों मे लिंग की अग्र त्वचा बेहद ही कठोर हो जाती है। इसके अलावा इस हिस्से की त्वचा में कई अन्य तरह के संक्रमण होने की संभावनाएं बनी रहती है।

लिंग के कैंसर होने की संभावनाएं कम होना – लिंग में होने वाले कैंसर का खतरा खतना वाले पुरुषों में कम होता है। वहीं ग्रीवा कैंसर (Cervical cancer) का खतरा खतना प्रक्रिया से गुजरने वाली महिलाओं में भी कम ही देखा जाता है।

Leave a Reply